उत्तराखण्ड राज्य

उत्तराखण्ड राज्य की स्थापना उत्तरांचल के नाम से भारत के 27वें राज्य के रूप में 9 नवम्बर सन् 2000 में हुई। इस राज्य को देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है। उत्तरांचल का नया नाम उत्तराखण्ड 1 जनवरी 2007 से हुआ।

देश का प्रथम राज्य कृषि विश्वविद्यालय, पंतनगर, बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, हेमकुण्ड साहिब, हरिद्वार, ऋषिकेश आदि प्रमुख तीर्थ तथा पंचबदरी, पंचकेदार एवं पंच प्रयाग भी इसी राज्य में स्थित हैं।

फूलों की घाटी, मसूरी, नैनीताल आदि पर्यटक केन्द्र तथा राजा जी एवं कार्बेट नेशनल पार्क जैसे अभयारण्य भी इस राज्य में स्थित हैं।

पंडित गोविन्द वल्लभ पंत एवं राष्ट्रकवि सुमित्रानन्दन पंत की जन्मस्थली भी इसी प्रान्त में है। उत्तराखण्ड के टिहरी जिले में भागीरथी एवं भिलंगना नदी के संगम पर देश का सबसे विशाल बांध बना है। जिसकी ऊँचाई 260.5 मी. है। यह मिटटी एवं पत्थर “रॉकफिल” से निर्मित है। इसकी विशाल झील का व्यास लगभग 45 वर्ग कि०मी० है तथा इसकी विद्युत उत्पादन क्षमता 2000 मैगावाट है।

उत्तराखण्ड राज्य में 2 मण्डल, 13 जिले, 78 तहसीलें तथा 95 विकास खण्ड हैं। उत्तराखण्ड राज्य की राजधानी देहरादून हैइस राज्य में गाँवों की संख्या 16,826 है।

क्षेत्रफल – 53,483 वर्ग किमी है तथा जनसंख्या 1,01,16,752 है।

इस राज्य का राजकीय पशु – कस्तूरी मृग, राजकीय पक्षी मोनाल, राजकीय वृक्ष-बुरांश तथा राजकीय पुष्प ब्रह्मकमल है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *