मूल्यांकन के प्रकार

Types of Evaluation

मनोवैज्ञानिकों ने मूल्यांकन प्रणाली को तीन भागों में विभाजित किया है, जो निम्न प्रकार हैं

निर्माणात्मक या रचनात्मक मूल्यांकन(Formative or formative assessment)

बालकों के विकास की लगातार प्रतिपुष्टि (feedback) के लिए निर्माणात्मक मूल्यांकन (Formative Evaluation) का उपयोग किया जाता है। इसके अन्तर्गत शिक्षक अध्यापन (पढ़ाना) के दौरान यह जाँच करते हैं कि बच्चों ने अभिवृत्तियों, अभिभूतियों तथा ज्ञान को कितना प्राप्त किया है। यह मूल्यांकन अध्याय के बीच-बीच में किया जाता है। यह एक सतत् सरल प्रक्रिया है। इसका योगदान विद्यार्थी के परिणाम में 40% होता है।

योगात्मक/संकल्पनात्मक/अन्तिम मूल्यांकन(Additive / Conceptual / Final Assessment)

यह मूल्यांकन सत्र (session) की समाप्ति के बाद होता है। इसके अन्तर्गत शिक्षक यह जाँच करते हैं कि बच्चों ने ज्ञान को किस सीमा तक प्राप्त किया है। यह सतत् प्रक्रिया नहीं है, क्योंकि यह मूल्यांकन विषय-पाठ पढ़ाने के बाद किया जाता है। इसे एक उत्पाद के रूप में माना जाता है। इसका योगदान विद्यार्थी के परिणाम में 60% होता है।

 निदानात्मक मूल्यांकन(Diagnostic evaluation)

जो विद्यार्थी पढ़ाई के दौरान असफल होते हैं। उन विद्यार्थियों की असफलता के कारणों का पता लगाना निदानात्मक मूल्यांकन कहलाता है।

अधिगम का मूल्यांकन(Learning assessment)

अधिगम के मूल्यांकन में उपलब्ध प्रमाणों के साथ कार्य करना शामिल है, जो स्टाफ और व्यापक मूल्यांकन समुदाय को विद्यार्थियों की प्रगति की जाँच करने और इस सूचना को अनेक तरीकों से इस्तेमाल करने में समर्थ बनाता है, जो इस प्रकार हैं।

अधिगम में मूल्यांकन की निम्न विशेषताएँ हैं।

  • यह मूल्यांकन शिक्षा प्राप्ति के बाद किया जाता है।
  • सूचना अध्यापक द्वारा एकत्र की जाती है।
  • सूचना को सामान्य रूप से अंकों अथवा ग्रेडों में रूपान्तरित किया जाता है। अन्य विद्यार्थियों के कार्य निष्पादन (performance) के साथ तुलना की जाती है।
  • यह इसके पहले प्राप्त की गई शिक्षा पर नजर डालता है।

अधिगम में अच्छे मूल्यांकन के प्रमुख मानदण्ड निम्न हैं 

  • ये युक्तिसंगत होते हैं (ठोस मानदण्डों पर आधारित)।
  • ये विश्वसनीय होते हैं (मूल्यांकन और पद्धति का सही होना)।
  • ये तुलनीय होते हैं (जब उनकी तुलना अन्य विभागों अथवा विद्यालयों में की गई जाँच-परख से की जाती है, तो वे ठीक पाए जाते हैं)।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *