प्रतिभाशाली एवं सृजनात्मक बालकों में अन्तर

The difference between talented and creative children

प्रतिभाशाली तथा सृजनात्मक बालकों में अन्तर निम्न रूप से समझा जा सकता है

  • उच्च बुद्धि लब्धि- दोनों प्रकार के बच्चों की बुद्धि लब्धि उच्च होती है। सृजनशील बच्चे उच्च बुद्धि वाले होते हैं। उनकी सामान्य मानसिक योग्यता पर्याप्त होती है और कुछ विशिष्ट योग्यता भी उच्च होती है।
  • प्रतिभाशाली का सृजनात्मक होना अनिवार्य नहीं- यह अनिवार्य नहीं कि सभी प्रतिभाशाली बच्चे सृजनात्मक हों। प्रतिभाशाली बच्चों में मौलिकता, नवीनता, अनुपमता, बहु-विध चिन्तन इत्यादि सृजनात्मक गुणों का अभाव हो सकता है।
  • समान बुद्धि लब्धि, परन्तु सृजनात्मकता में अन्तर- एक जैसी बुद्धि लब्धि वाले बच्चों की सृजनात्मक शक्ति में महत्त्वपूर्ण अन्तर होता है।
  • सफलता उन्मुख- प्रतिभाशाली बच्चे सफलता की ओर उन्मुख होते हैं, परन्तु सृजनात्मक बच्चे सदा सफलता के लिए उन्मुख नहीं रहते।
  • बुद्धि एवं सृजनात्मकता की मात्रा- कुछ बच्चों में बुद्धि की मात्रा कम होती है। परन्तु सृजनात्मकता की मात्रा अधिक होती है अर्थात् उनमें बुद्धि की तुलना में सृजनात्मकता अधिक होती है, परन्तु एक मन्द बुद्धि बच्चा सृजनात्मक नहीं हो सकता।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *