वातावरण का अर्थ एवं परिभाषा

Meaning and definition of environment

वातावरण का अर्थ, पर्यावरण से है। पर्यावरण दो शब्दों- ‘परि’ एवं ‘आवरण’ के मिलने से बना है। ‘परि’ का अर्थ होता है चारों ओर, ‘आवरण’ का अर्थ होता है ढकना। इस प्रकार ‘पर्यावरण” का अर्थ होता है चारों ओर से घेरने वाला। प्राणी या मनुष्य जल, वायु, वनस्पति, पहाड़, पठार, नदी, वस्तु आदि से घिरा हुआ है यही सब मिलकर पर्यावरण का निर्माण करते हैं। वातावरण मानव जीवन के विकास पर महत्त्वपूर्ण प्रभाव डालता है। मानव विकास में जितना योगदान आनुवंशिकता का है उतना ही वातावरण का भी। इसलिए कुछ मनोवैज्ञानिक वातावरण को सामाजिक वंशानुक्रम भी कहते हैं। व्यवहारवादी मनोवैज्ञानिकों ने वंशानुक्रम से अधिक वातावरण को महत्त्व दिया है।

एनास्टैसी के अनुसार, “पर्यावरण वह हर चीज है, जो व्यक्ति के जीवन के अलावा उसे प्रभावित करती है।”

जिसबर्ट के अनुसार, “जो किसी एक वस्तु को चारों ओर से घेरे हुए है तथा उस पर प्रत्यक्ष प्रभाव डालता है वह पर्यावरण होता है।”

हॉलैण्ड एवं डगलस के अनुसार, “जीव-जगत् के प्राणियों के विकास, परिपक्वता, प्रकृति, व्यवहार तथा जीवन शैली को प्रभावित करने वाली बाह्य समस्त शक्तियों, परिस्थितियों तथा घटना को पर्यावरण में सम्मिलित किया जाता है और उन्हीं की सहायता से पर्यावरण का वर्णन किया जाता है।”

 वातावरण के प्रकार ( Types of Environment ) :-

वातावरण अथवा पर्यावरण दो प्रकार का होता है | जो इस प्रकार से है:

  • आंतरिक वातावरण (Internal Environment)
  • बाह्य वातावरण (External Environment)

आंतरिक वातावरण (Internal Environment)

आंतरिक वातावरण का मतलब पृथ्वी की गर्भावस्था की उन आधारों से है जो भ्रूण को चारों ओर से घेरे रहती है ।

बाह्य वातावरण (External Environment)

बाह्य वातावरण के अंतर्गत वे सभी अवस्थाएं आती हैं जो मुख्य रूप से उसकी उतपत्ति और व्यवहार पर प्रकाश डालती रहती है | बाहय वातावरण को भी मुख्य रूप से दो भागों में बाटा गया है | जो प्रकार से हैं:

  1. भौतिक वातावरण (Physical Environment)
  2. सामाजिक वातावरण ( Social Environment )

Related Posts

This Post Has One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *