मानसिक रूप से विकलांग बालकों की पहचान

Identification of mentally challenged children

कुछ बालक विशेष रूप से कम बुद्धि के होते हैं। वे मानसिक रूप से इतने कमजोर होते हैं कि कक्षा में शिक्षक द्वारा दिए गए निर्देशन को सुगमता से समझ नहीं पाते।

 

मानसिक रूप से पिछड़ेपन या मन्दबुद्धि बालक से अभिप्राय उन बालकों से है जो किसी भी शारीरिक तथा मानसिक रोग के कारण मन्दबुद्धि का प्रदर्शन करते हैं और अपनी आयु के स्तर के अनुसार किसी भी कार्य को करने में असमर्थ होते हैं। इस दोष के कारण इनमें कई प्रकार की हीन-भावनाएँ (Inferiority Complex) पैदा हो जाती हैं।

ऐसे बालक हर तरफ से उपेक्षित रहते हैं। मानसिक रूप से पिछड़े बालकों को बुद्धि लब्धि के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। 79 से 80 के बीच बुद्धि-लब्धि (IQ) वाले बालक इस वर्ग में आते हैं।

मानसिक पिछड़ेपन या मन्दबुद्धि होने के कारण (Due to mental backwardness or mental retardation)

मानसिक पिछड़ेपन के लिए मुख्य रूप से उत्तरदायी कारकों का वर्णन निम्नलिखित है

वंशानुक्रम (Inheritance)

यह विचार सदा ही लोकप्रिय रहा है कि मानसिक पिछड़ेपन का मुख्य कारण वंशानुक्रम ही है। इस पिछड़ेपन का मुख्य भाग बालकों को उनके माता-पिता के मानसिक पिछड़ेपन से मिलता है। बुद्धिहीनता पूर्वजों में भी होती है और इसका हस्तान्तरण बालकों में भी हो जाता है। इसका कारण गुणसूत्रों (Chromosomes) का दोष होता है।

शारीरिक कारक (Physical factors)

मस्तिष्क में कमियों के आ जाने सेमानसिक दोष आ सकता है। इसके अतिरिक्त मस्तिष्क कोशिकाओं को बुखार के कारण घाव लगना भी शारीरिक कारकों में शामिल होता है। कई और बीमारियाँ; जैसे मैनिनजाइटिस, एनसिफलाईटिस, कनजिनियल जर्मन मीसल्स आदि भी मानसिक पिछड़ेपन के लिए उत्तरदायी हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, ऐपीलैप्सी आदि बीमारियाँ भी इस दोष को जन्म देती हैं।

संवेगात्मक कारक (Emotional factors)

मानसिक पिछड़ेपन का शैक्षणिक उपलब्धि का पक्ष गहरे संवेगात्मक कारकों के कारण होता है। संवेगों पर नियन्त्रण न कर पाने पर मानसिक सन्तुलन बिगड़ जाता है और बालक कहीं भी समायोजन नहीं कर पाते।

समाजशास्त्रीय कारक (Emotional factors)

कुछ समाजशास्त्रियों का मत है कि मानसिक पिछड़ापन परिवार की आर्थिक और सामाजिक परिस्थितियों के परिणामस्वरूप होता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *