गोवा राज्य

  • राजधानी – पणजी
  • भाषा – कोंकणी और मराठी

गोवा राज्य की भू-आकृति (The landscape of the state of Goa)

गोवा कर्नाटक और महाराष्ट्र के मध्य स्थित है, इसके पश्चिम में सिन्धु सागर (अरब सागर) है। गोवा का पूर्वी भाग पहाड़ी है जहाँ सह्याद्रि पर्वत की श्रृंखलाएँ हैं। पश्चिम की ओर बहने वाली प्रमुख नदियाँ माण्डोवी, जुमारी, तेरेखोल, चपोरा और बेतूल आदि हैं।

गोवा राज्य का इतिहास (History of Goa State)

गोवा का इतिहास मौर्य साम्राज्य के समय से मिलता है। प्राचीन काल में गोवा का नाम गोपकपट्टण या गोमन्त था। महाभारत के भीष्म पर्व में इस नाम का उल्लेख है। सन् 1471 से लेकर 20 वर्ष तक गोवा बहमनी शासकों के अधीन रहा। पुर्तगाल के अल्बुकर्क ने सन् 1510 में इसको अपने कब्जे में कर लिया। इस अवधि में वहाँ ईसाई धर्म-प्रचारकों का आना आरम्भ हुआ। इनमें जेवियर बहुत प्रसिद्ध हुए। स्वतन्त्रता-आन्दोलन के दौरान गोवा को पुर्तगालियों के शिकंजे से मुक्त कराने के अनेक प्रयास किये गये। अन्ततः 19 दिसम्बर 1961 को गोवा को मुक्त करा लिया गया।

12 अगस्त 1987 तक गोवा संघ शासित प्रदेश गोवा, दमन और दीव का एक भाग था। सन् 1987 में संसद द्वारा पास किये गये अधिनियम के अनुसार गोवा भारत संघ का पच्चीसवाँ राज्य बन गया।

गोवा की अर्थव्यवस्था (Economy of Goa)

गोवा मुख्यत: कच्चा लोहा और मैंगनीज का निर्यात करने वाला राज्य है। यहाँ की मुख्य फसल धान है। इसके बाद रागी, काजू और नारियल का स्थान है। मछली पकड़ने का बहुत बड़ा व्यवसाय है।

गोवा के पर्यटन व दर्शनीय स्थल (Goa Tourism and Sightseeing)

  • पुराना गोवा
  • मंगेश शिव मन्दिर
  • शान्ता दुर्गा मन्दिर और नागेश मन्दिर
  • माण्डोवी नदी पर दोनापौला
  • अरावेलम प्रपात
  • मेईम झील
  • दूध सागर झरना
  • बोण्डाला पशु अभयारण्य
  • मार्मागोवा बन्दरगाह
  • अगुवाड़ा किला आदि दर्शनीय स्थल हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *