प्रतिभाशाली बालकों की विशेषताएँ

Characteristics of talented children

प्रतिभाशाली बालकों में भी कई प्रकार, विशेषताएँ पाई जाती हैं। इनमें समरूपता होना आवश्यक नहीं है।

इन बालकों की मुख्य विशेषताओं के आधार निम्नलिखित हैं

शारीरिक विशेषताएँ (Physical characteristics)

  • शारीरिक विकास तीव्र गति से होता है और यह विकास कद, भार, चलना, बोलना आदि के रूप में होता है।
  • विशिष्ट बुद्धि वाले बच्चों में उत्तम स्वास्थ्य होता है और शारीरिक दोष बहुत कम होते हैं।
  • इन बच्चों की ज्ञानेन्द्रियाँ प्रखर होती हैं।
  • प्रतिभाशाली बालकों में किशोरावस्था के लक्षण शीघ्र दिखाई देते हैं।

बौद्धिक विशेषताएँ (Intellectual characteristics)

  •  प्रतिभाशाली बालक मानसिक रूप से सामान्य बालकों से श्रेष्ठ. होते हैं। इनमें सीखने, समझने, स्मरण (याद करना) तथा तर्क करने की विशेष क्षमता होती है।
  • ऐसे बालकों में ज्ञान की जिज्ञासा, मौलिकता तथा दृढ़ इच्छा शक्ति  पाई जाती है।
  • उत्तम कल्पनाशक्ति एवं अन्तर्दृष्टि (Insight) होती है।
  • तर्क करने की योग्यता सामान्य बालकों से अधिक होती है।
  • ऐसे बालकों में अवधान का विस्तार भी अधिक होता है।
  • ध्यान केन्द्रित करने की व्यापक क्षमता होती है।
  • इनका अधिगम तीव्रगति एव सरलता से होता है।
  • ये स्पष्टवादी, फुर्तीले और श्रेष्ठ आत्म अभिव्यक्ति वाले होते हैं।
  • एक या एक से अधिक क्षेत्रों में विशिष्ट योग्यता होती है।

 संवेगात्मक विशेषताएँ (Emotional features)

  •  संवेगात्मक रूप से प्रतिभाशाली बालक स्थिर और समायोजन से युक्त होते हैं। सामान्य तथा प्रसन्न रहते हैं और समस्याओं व कठिनाइयों को स्वतन्त्र रूप से हल करना चाहते हैं।
  • नवीन व्यक्तियों, स्थानों और परिस्थितियों से ये बालक शीघ्र ही समायोजन कर लेते हैं।
  • इसका चरित्र और व्यक्तित्व दूसरे बालकों से श्रेष्ठ होता है।
  • ये बालक विनोदप्रिय होते हैं।

सामाजिक विशेषताएँ (Social features)

  • ये बालक सामाजिक रूप से अधिक परिपक्व तथा सर्वप्रिय होते हैं। इनमें उत्तरदायित्व की भावना, ईमानदारी और विश्वसनीयता पाई जाती है। इनमें नेतृत्व की विशेषताएँ बहुत होती हैं।
  • ऐसे बालक घर, स्कूल तथा समुदाय के अन्य कार्यों की जिम्मेदारी लेना बहुत पसन्द करते हैं। अनुशासन का पालन कर एक-दूसरे का सम्मान करने वाले होते हैं।
  • ऐसे बालक लोकप्रिय व्यक्तित्व वाले होते हैं।

नकारात्मक विशेषताएँ (Negative features)

प्रतिभाशाली बालकों में सामाजिक दृष्टि से कुछ नकारात्मक विशेषताएँ भी देखने को मिलती हैं। इन नकारात्मक विशेषताओं का विकास सम्भवत: उनकी प्रतिभा का समुचित पोषण एवं उपयोग न करने के कारण होता है।

कुछ नकारात्मक विशेषताएँ निम्न हैं

  •  प्रतिभाशाली बालक कई कार्यों में लापरवाही करने लगते हैं।
  • कभी-कभी ईर्ष्यालु एवं अहंकारयुक्त व्यवहार करने लगते हैं।
  • ऐसे बालकों की रुचि दूसरों की आलोचना में अधिक होती है।
  • कभी-कभी आवश्यकता से अधिक बोलना तथा हठ करना।
  • पाठ्यक्रम को सरल समझने के कारण पढ़ने-लिखने में आलस्य करते हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *