हरियाणवी रंगमंच तथा फिल्में

हरियाणवी फिल्में (Haryanvi Movies) हरियाणा में हिन्दी फिल्में बड़े चाव से देखी जाती हैं। इसके बावजद प्रदेश में हरियाणवी फिल्मों का इतिहास चार दशक से भी अधिक पुराना है। हारयाणवा… Read more

हरियाणा प्रदेश में पत्रकारिता का इतिहास

पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है। आज के बहुमुखी जीवन में पत्रकारिता का महत्व किसी से छुपा नहीं है। समय के साथ-साथ समाचार-पत्र तथा पत्रिकाएँ हमारी सामाजिक,… Read more

हरियाणा प्रदेश का आधुनिक साहित्य

साहित्य मानव मन की अभिव्यक्ति है। एक तरफ जहाँ पद्य के माध्यम से मानव मन की संवेदनाओं की अभिव्यक्ति होती है तो दूसरी ओर गद्य को मानव मन के चिन्तन… Read more

हरियाणा प्रदेश में राम काव्य परंपरा

हरियाणा  प्रदेश में राम-काव्य की परंपरा की शुरुआत वि.सं. 1029 (972 ई.) से मानी जाती है। पुष्पदंत अपभ्रंश भाषा के अन्तिम कवि माने जाते हैं। इन्होंने अपनी रचना ‘तिसट्ठि महापुरिस… Read more

हरियाणा प्रदेश का गद्य साहित्य

संस्कत भाषा संगीत तथा संस्कृति की भाषा है। यही कारण है कि संस्कत भाषा में गद्य की तलना में पद्य रचना पर आधक काम हुआ है। यह बात हरियाणा के… Read more

हरियाणवी भाषा एवं हरियाणवी साहित्य

हरियाणा की धरती साहित्यिक दृष्टि से चिरकाल से ही संपन्न रही है। अनेक वैदिक ऋचाओं तथा दार्शनिक ग्रन्थों की रचना इस धरती पर हुई है। भगवान कृष्ण ने यहाँ गीता… Read more

हरियाणा में पहने जाने वाले पारंपरिक आभूषण

हरियाणा पारंपरिक रूप से एक समृद्ध क्षेत्र रहा है। मध्यकालीन लूट के बावजूद प्रदेश के आर्थिक हालात अपेक्षाकृत अच्छे रहे हैं। मध्य तथा उत्तरी हरियाणा का क्षेत्र एक समतल उपजाऊ… Read more

हरियाणा की वेशभूषा एवं खानपान

हरियाणा की संस्कृति जितनी सप्तरंगी है उतनी ही सादी गाँव-देहात के लोगों की वेशभूषा और खान-पान है। केन्द्र शासित प्रदेश दिल्ली और चण्डीगढ़ के अलावा हरियाणा की सीमाएँ मुख्य रूप… Read more

हरियाणा प्रदेश के लोक वाद्य यंत्र

हरियाणा में लोकसंगीत की परंपरा बड़ी समृद्ध रही हैं वाद्य यंत्रों का प्रयोग केवल नृत्य और गायन में ही नहीं होता बल्कि धार्मिक, पारिवारिक तथा सामाजिक अनुष्ठानों में भी वाद्ययंत्रों… Read more

भारतीय संस्कृति में नृत्य

भारतीय संस्कृति में नृत्य को बहत महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। “द्वारिका महात्मय’ में कहा गया है कि जो व्यक्ति अत्यत भाक्त भाव स नृत्य करता है, उसके जन्म-जन्मान्तर के पापों… Read more