भिवानी शहर

Bhiwani City

अमर स्वतंत्रता सेनानी पं. नेकीराम शर्मा की जन्मभूमि तथा ‘आधुनिक हरियाणा के निर्माता और हरियाणा के लौहपुरुष’ कहे जाने वाले हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौ. बंसीलाल की कर्मस्थली और जन्मभूमि रहा भिवानी, हरियाणा प्रदेश का महत्त्वपूर्ण जिला है।

bhiwani map - haryana district map

भिवानी जिले की स्थापना तथा परिचय (Establishment and introduction of Bhiwani district)

भिवानी को इतिहास में ‘भानीग्राम’ के नाम से जाना जाता था। ‘भानीग्राम’ शब्द बिगड़ते-बिगड़ते भिआवानी और भिवानी बन गया। हिसार जिला गजट के अनुसार 17वीं-18वीं सदी में यह शहर इस क्षेत्र का प्रमुख व्यापारिक केन्द्र था। 1873 ई. में दिल्ली-बीकानेर रेल लाइन बिछाई गई। इससे पूर्व भिवानी शहर को ‘राजपूताने का सिंहद्वार’ कहा जाता था।

भिवानी जिले की स्थापना एवं प्रशासनिक परिदृश्य (Establishment and administrative scenario of Bhiwani district)

स्वतंत्रता सेनानी पंडित नेकी राम शर्मा, पूर्व केन्द्रीय रक्षामंत्री एवं हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौ. बंसीलाल, पूर्व मुख्यमंत्री श्री बनारसी दास गुप्त, दानवीर सेठ किरोड़ी मल, ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाज बिजेन्द्र सिंह की जन्मभूमि भिवानी जिला, हरियाणा के दक्षिण-पश्चिमी भाग में स्थित एक महत्त्वपूर्ण जिला है। 22 दिसंबर, 1972 को हिसार से अलग करके भिवानी जिला बनाया गया। वर्ष 2016 में जिले के सबसे बड़े उपमण्डल दादरी को भिवानी जिले से अलग करके प्रदेश का 22वाँ जिला बनाया गया है। 2016 में चरखी-दादरी के अलग जिला बनने से पूर्व भिवानी जिले का कल क्षेत्रफल 4778 वर्ग कि.मी. था तथा क्षेत्रफल की दृष्टि से यह प्रदेश का सबसे बड़ा जिला माना जाता था। दादरी उपमण्डल को जिला बनाए जाने के उपरान्त इस जिले का क्षेत्रफल लगभग 3408 वर्ग कि.मी. है (आधिकारिक आँकड़े अभी प्रकाशित नहीं हुए हैं)। चरखी दादरी के अलग जिला बन जाने के उपरान्त इस समय भिवानी जिले में कुल 272 गाँव बचे हुए हैं। ये सभी गाँव पक्की सड़कों तथा विद्युत आपूर्ति से जुड़े हुए हैं। जिले के 172 गाँव दादरी जिले में स्थानान्तरित कर दिए गए हैं।

भिवानी जिला हरियाणा का सीमान्त जिला है। जिले के उत्तर में हिसार जिला, पूर्व में रोहतक, दक्षिण में महेन्द्रगढ़ और दक्षिण-पूर्व में नवगठित चरखी-दादरी जिले की सीमाएँ लगती हैं। जिले के पश्चिम में राजस्थान के झुंझनू और चूरू जिलों की सीमाएँ लगती हैं।

भिवानी जिले में (दादरी उपमण्डल के नया जिला बन जाने के उपरान्त) चार उपमण्डल-भिवानी, तोशाम, लोहारू तथा सिवानी हैं। इस जिले के पाँचवें उपमण्डल दादरी को सितंबर 2016 में हरियाणा का 22वाँ जिला बनाया गया है। वर्तमान भिवानी जिले में 5 तहसील-भिवानी, बवानी खेड़ा, तोशाम, लोहारू तथा सिवानी मण्डी हैं। जिले की 2 तहसील दादरी तथा बाढड़ा नवगठित जिले चरखी दादरी में स्थानान्तरित कर दी गई हैं। जिले में एक उपतहसील-बहल है। बाढड़ा, बौंदकलां तथा दादरी खण्ड के अलग हो जाने के उपरान्त वर्तमान समय में भिवानी जिले में 7 विकास खण्ड (ब्लॉक) हैं।

भिवानी जिले का जिला मुख्यालय भिवानी शहर में हैं। प्रशासनिक दृष्टि से भिवानी जिला रोहतक मण्डल का भाग है। जिले का जिला न्यायालय भिवानी में है। इसके अलावा लोहारू में उपमण्डलीय न्यायालय भी है। पुलिस प्रशासन की दृष्टि से भिवानी जिला रोहतक पुलिस रेंज का भाग है। राजनैतिक दृष्टि से भिवानी जिला ‘भिवानी-महेन्द्रगढ़’ लोकसभा क्षेत्र में सम्मिलित है। जिले में 4 विधानसभा क्षेत्र-भिवानी, तोशाम, लोहारू तथा बवानी खेड़ा (सुरक्षित) हैं। चौ. बंसीलाल तोशाम विधानसभा क्षेत्र से बड़े लंबे समय तक विधायक रहे थे।

भिवानी जिले की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि (Historical Background of Bhiwani District)

इतिहास में ‘राजपूताना का सिंहद्वार’ के नाम से प्रसिद्ध भिवानी का क्षेत्र अपने आप में एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति को समेटे है। जिले के मित्ताथल और नौरंगाबाद में उत्खनन से इस क्षेत्र में हड़प्पा तथा पूर्व हडप्पाकालीन संस्कृति के अवशेष मिले हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *