हरियाणा प्रदेश का पर्यटन विभाग

हरियाणा एक ऐतिहासिक प्रदेश है। कुछ इतिहासकार मानते हैं कि हरियाणा की भूमि भारत में आर्यों का प्रांरभिक निवास स्थान रही है। प्रदेश में अनेकों धार्मिक, ऐतिहासिक तथा आधुनिक पर्यटन स्थल हैं जहाँ प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक आते हैं। प्रदेश में विभिन्न पर्यटन केन्द्रों का रख-रखाव, प्रबंधन तथा संरक्षण हरियाणा पर्यटन विभाग के कंधों पर है। प्रदेश में आने वाले सैलानियों को आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा 1974 में हरियाणा टूरिज्म कार्पोरेशन की स्थापना की गई। यह कार्पोरेशन, कंपनी अधिनियम, 1956 के अन्तर्गत पंजीकृत एक सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है।

हरियाणा पर्यटन निगम (हरियाणा टूरिज्म कार्पोरेशन) की स्थापना के प्रमुख उद्देश्य हैं

  • हरियाणा को विश्व में एक प्रमुख पर्यटन केन्द्र के रूप में स्थापित करना।
  • प्रदेश में प्रमुख पर्यटन केन्द्रों की पहचान तथा उनका प्रचार।
  • पर्यटकों के लिए प्रदेश में उत्तम श्रेणी की सुविधाएँ उपलब्ध करवाना।
  • प्रदेश के पर्यटन स्थलों के विकास के लिए आवश्यक कदम उठाना।
  • प्रदेश में ईको टूरिज्म, एडवेंचर टूरिज्म, फार्म टूरिज्म, मेडिकल टूरिज्म, गोल्फ टूरिज्म जैसे नए कॉन्सेप्ट को बढ़ावा देकर राज्य सरकार – के राजस्व में वृद्धि करना।

इन उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए यह निगम निरंतर प्रयासरत है। हरियाणा पर्यटन निगम द्वारा राज्य में विभिन्न स्थानों पर कुल 45 पर्यटन केन्द्र स्थापित किए गए हैं। राज्य से गुजरने वाले विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गों, राजकीय राजमार्गों तथा विशिष्ट स्थानों के निकट स्थापित इन पर्यटन केन्द्रों में पर्यटकों के ठहरने, खाने-पीने तथा पिकनिक की समुचित व्यवस्था की गई है।

इन पर्यटन केन्द्रों के नाम परंपरागत रूप से पशु-पक्षियों के नाम पर रखे गए हैं।

  • पर्यटन                                                केन्द्र स्थान                                  जिला                 स्थापना
  • पिंजौर गार्डन रिसोर्ट                                पिंजौर                                        पंचकूला                     1967
  • बड़खल झील                                        फरीदाबाद                                 फरीदाबाद                    1969
  • सनबर्ड मोटेल                                        सूरजकुंड                                  फरीदाबाद                   1970
  • कर्ण झील एवं रिसोर्ट                               उचाना                                       करनाल                      1972
  • बुलबुल रिसोर्ट                                          जीन्द                                         जीन्द                         1972
  • पैराकीट रिसोर्ट                                        पिपली                                     कुरुक्षेत्र                        1972
  •  ब्लू-जे रिसोर्ट                                         समालखा                                   पानीपत                       1972
  • ओएसिस                                                  उचाना                                     करनाल                       1973
  • पर्यटन                                                      सोहना                                      गुरुग्राम                       1973
  • फ्लेमिंगों                                                   हिसार                                        हिसार                         1973
  •  जंगल वैबलर                                         धारूहेड़ा                                     रेवाड़ी                         1974
  • डबचिक                                                   होडल                                        पलवल                       1974
  • शमा                                                         गुरुग्राम                                      गुरुग्राम                      1974
  • मैगपाई                                                     फरीदाबाद                                फरीदाबाद                  1975
  • तिलियार झील रिसोर्ट                                 रोहतक                                      रोहतक                     1976
  • स्काईलार्क                                                पानीपत                                       पानीपत                   1979
  • शिकारा                                                    आस खेड़ा                                     सिरसा                    1980
  • राजहंस होटल                                            सूरजकुण्ड                                फरीदाबाद                1982
  • सैंडपाइपर                                                   रेवाड़ी                                          रेवाड़ी                   1982
  • बैया                                                               भिवानी                                       भिवानी                 1989
  •  ग्रे-पेलिकन                                                  यमुनानगर                                यमुनानगर                1984
  • कोयल                                                            कैथल                                         कैथल                  1984
  • किंग फिशर                                                    अंबाला                                      अंबाला                 1986
  • माउण्टेन क्वेल                                              मोरनी हिल्स                                  पंचकूला               1987
  • नीलकण्ठी कृष्णधाम यात्री निवास                  कुरुक्षेत्र                                        कुरुक्षेत्र                1987
  • हर्मिटेज                                                         सूरजकुण्ड                                फरीदाबाद               1988
  • सारस (दमदमा झील रिसोर्ट)                           दमदमा                                     गुरुग्राम                 1989
  • गौरैया                                                               झज्जर                                    बहादुरगढ़               1990
  • अरावली गोल्फ कोर्स                                      फरीदाबाद                              फरीदाबाद                1990
  •  रैड बिशप                                                      पंचकूला                                    पंचकूला                  1993 (1972)
  • पपीहा                                                           फतेहाबाद                                 फतेहाबाद                1994
  • ज्योतिसर काम्प्लेक्स                                       ज्योतिसर                                     कुरुक्षेत्र                 1994
  • ब्लू बर्ड                                                             हिसार                                       हिसार                   1996
  • जटायु यात्रिका (माता मनसा देवी)                    पंचकूला                                     पंचकूला                1997
  • ब्लैक बर्ड                                                        हांसी                                           हिसार                   1999
  •  अंजान यात्रिका                                               पेहोवा                                        कुरुक्षेत्र                  1999
  • हाइवे गोल्फ क्लब                                           उचाना                                        करनाल                  1999
  • एथनिक इंडिया                                                 राई                                          सोनीपत                  2000
  • कॉटन टील                                                       ओटू                                          सिरसा                   2001
  • नाहर सिंह पैलेस                                           बल्लभगढ़                                  फरीदाबाद                2003
  • एडवेंचर रिसोर्ट                                         टिक्कर लाल (मोरनी)                       पंचकूला                  2003
  • दीबंधु चौ. छोटू राम टूरिस्ट कॉम्प्लेक्स             सांपला                                         रोहतक                   —-

हरियाणा राज्य की पर्यटन नीति, 2008(Haryana State Tourism Policy, 2008)

हरियाणा सरकार पर्यटन को आर्थिक विकास, रोजगार सृजन तथा सांस्कृतिक आदान-प्रदान का एक प्रमुख साधन मानती है। प्रदेश में पर्यटन के विकास के लिए अपार संभावनाएँ है। प्रदेश को देश में एक प्रमुख पर्यटन केन्द्र के रूप में स्थापित करने के उद्देश्य से हरियाणा सरकार द्वारा वर्ष 2008 में प्रदेश की नई पर्यटन नीति लागू की गई। इस नीति के प्रमुख उद्देश्य हैं

  • प्रदेश के आर्थिक विकास तथा रोजगार सृजन की क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से पर्यटन को बढावा देना।
  • ट्रेवल ट्रेड को बढ़ावा देने के उद्देश्य से हरियाणा को एक प्रमुख पर्यटन केन्द्र के रूप में स्थापित करना।
  • प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए निजी क्षेत्र की भागीदारी को बढ़ावा देना।
  • प्रदेश में ‘हाइवे टरिज्म’ के परंपरागत स्वरूप को बढ़ाकर-ईको टूरिज्म, एडवेंचर टूरिज्म, गोल्फ टूरिज्म, मेडिकल टूरिज्म, हेरिटेज टूरिज्म जैसे नए क्षेत्रों को सम्मिलित करना।
  • प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक आधारभूत ढाँचा विकसित करना।
  • इस क्षेत्र से जुड़े लोगों की व्यवसायिक कुशलता में बढ़ोतरी के लिए आवश्यक प्रशिक्षण की व्यवस्था करना
  • उपरोक्त उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए आधुनिक तकनीकों का प्रयोग करना।

  हरियाणा राज्य का पर्यटन विकास परिषद्(Haryana State Tourism Development Council)

पर्यटन नीति, 2008 में प्रदेश के मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक पर्यटन विकास परिषद् के गठन का प्रावधान किया गया पट में मख्यमंत्री के अलावा प्रदेश के वित्त मंत्री, पर्यटन मंत्री, अन्य संबंधित विभागों के मंत्री तथा सचिव, होटल/पर्यटन उद्योग से जडे दो प्रतिनिधि तथा पर्यटन के क्षेत्र से संबंधित दो विशेषज्ञों को शामिल करने का प्रावधान है।

हरियाणा राज्य का पर्यटन सर्कल का विकास(Development of tourism circle of Haryana state)

इस पर्यटन विकास नीति में प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों को पर्यटन सर्कल के रूप में विकसित करने की योजना है। पर्यटन नीति, 2008 के अनुसार

  • पानीपत-कुरुक्षेत्र-पिंजौर को समेकित रूप से विकसित करके एक पर्यटन सर्कल बनाया जाएगा।
  • गुरुग्राम के क्षेत्र को कंवेंशन, एक्जीबिशन (Exhibition) तथा गोल्फ के हब के रूप में विकसित किया जाएगा।
  • गुरुग्राम जिले के सोहना तथा दमदमा झील के क्षेत्र में एडवेंचर टूरिज्म से जुड़ी गतिविधियों के लिए ढांचागत विकास की योजना है
  • कुरुक्षेत्र-पेहोवा-थानेसर के क्षेत्र को धार्मिक तथा आध्यात्मिक केन्द्र के रूप में विकसित किए जाने की योजना है।
  • वन विभाग के सहयोग से मोरनी, कलेसर तथा सुलतानपुर में ‘इको टूरिज्म’ को बढ़ावा देने की योजना है।
  • सूरजकुण्ड, बड़खल, दमदमा तथा मोरनी (पंचकूला) में एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए ‘कैंपिंग साइट (Camping Sites) विकसित किए जाने की भी योजना है।
  • कुरुक्षेत्र, सूरजकुण्ड तथा पिंजौर में ‘हेरिटेज टूरिज्म’ को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक ढांचागत सुविधाएँ विकसित किए जाने कीयोजना है।

पर्यटन विकास तथा धार्मिक पर्यटन के विकास हेतु हरियाणा सरकार के कुछ नवीन प्रयास(Some new efforts of the Government of Haryana for the development of tourism and religious tourism)

 

  • प्रदेश के 93 गांवों के पर्यटन और प्राचीन तीर्थ स्थलों को विकसित किया जायेगा। इसमें यमुनानगर जिले के 45, कैथल जिले के 21 तथा कुरुक्षेत्र जिले के 27 गांवों के तीर्थस्थल सम्मिलित हैं।
  • सरस्वती नदी के मार्ग के किनारे बने सभी शमशान घाट के निकट अस्थि विसर्जन हेतु तालाब बनाए जाएंगे।
  • नदी जल को स्वच्छ रखने के लिए सौ गंदे नालों को बन्द किया जाएगा।
  • आदि बद्री से लेकर कैथल के लेंडर किमा आंधली गांव (पंजाब सीमा) तक 204 कि.मी. तक चैनल तथा 150 कि.मी. सरस्वती का धाराएँ विकसित की जाएंगी।
  • केन्द्र सरकार ने कृष्णा सर्किट के लिए लगभग 100 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की है। इस योजना के अन्तर्गत प्रदेश में धार्मिक महत्त्व के स्थानों को विकसित किया जाएगा।
  • सरस्वती नदी के अनुसंधान एवं पुनरोद्धार हेतु हरियाणा सरकार द्वारा ‘सरस्वती धरोहर विकास बोर्ड’ की स्थापना की गई है।
  • यमुना नगर जिले के गांव मुगलवाली में सरस्वती नदी की खुदाई का कार्य चल रहा है। राज्य सरकार द्वारा इस क्षेत्र को अन्तर्राष्ट्रीय तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किए जाने की योजना है।
  • प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा ‘हरियाणा ट्रैवल गाइड’ नामक पुस्तक प्रकाशित की गई है।
  • स्वदेश दर्शन योजना (केन्द्र सरकार द्वारा वितपोषित) के अन्तर्गत महाभारत से संबंधित स्थलों को विकसित किया जा रहा है।
  • नारनौल-महेन्द्रगढ़-माधोगढ़-रेवाड़ी को ग्रामीण पर्यटन सर्किट के रूप में विकसित करने की योजना बनाई गई है।
  • हरियाणा सरकार द्वारा 30 करोड़ रुपये की लागत से पंचकूला में एक अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का संग्रहालय बनाया जा रहा है।
  • हिसार जिले के नारनौंद उपमण्डल के हड़प्पा कालीन स्थल राखीगढ़ी में हरियाणा सरकार द्वारा एक राज्य स्तरीय संग्रहालय बनाया जा रहा है।
  • राज्य सरकार द्वारा कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड को वैधानिक दर्जा दिया जाएगा।
  • वर्ष 2018 से अन्तर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव मॉरीशस मे भी मनाया जाएगा।

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *